भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रार्थना-घर / विजय गुप्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टूट गया जीवन-समास
इष्ट हुए गौण
केवल वास्तु-शिल्प मुखर

प्रार्थनाओं की शाम
रक्त के तालाब में
डूब गई

वर्दियों के धुँधलके में
हमारा प्रार्थना-घर ।