भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रार्थना गीत / श्याम सुन्दर घोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मौला दै दे एक तम्बूरा
ओकरा पर हमेॅ राग गुंजावौं-अनहद, करलौं जीवन पूरा।
जीवन सीधा-सादा एतना, नैं चाहै छी देखौं सपना,
पीठ दैकेॅ चल पावौं सुख केॅ, ध्यान नैं खीचेॅ कोट-कगूंरा।
ज्यों-ज्यों करी केॅ रही लेना छै, मिलेॅ हलाहल पी लेना छै।
आपनोॅ नैया खुद ही खेबवै, आपनोॅ गठरी आप मजूरा।
चना चबेना के बल जीना, खोदि कुआं गंगा-जल पीना,
फाकामस्ती के जे नौवत आवेॅ हँस केॅ करौं सबूरा।
जीवन तेॅ बस खेल-तमाशा, नाच नचा कुछ दै केॅ झांसा,
नीली छतरीवाला जेहनोॅ बनौं मदारी बनी जमूरा।
कोय्यो मांगै टाका-पैसा, धन, दौलत सुख, ऐसा-पैसा;
हम्में मागौं लोटा-थारी, चिमटा कम्बल, भांग, धतूरा।