भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

प्रार्थना / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आकाश के अनंत छोर तक पहुँच
बच्चों के लिए चुग्गा जुटा कर
सांझ समय वापिस पहुँच सकूँ
अपने घोंसले में
वे पंख देना मुझे ।

युगों से अंधकार में गुम
सुखों को शोध सकूँ
भावी पीढ़ियों के लिए
वह आँख देना मुझे

अन्यथा ओ ईश्वर !
कृपा के नाम पर
कृपया
कोई कृपा मत करना मुझ पर

अनुवाद : मोहन आलोक