भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रिया सुख उच्छ्वास कपिल सुप्त मदन... / कालिदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: कालिदास  » संग्रह: ऋतुसंहार‍
»  प्रिया सुख उच्छ्वास कपिल सुप्त मदन...

प्रिया सुख उच्छ्वास कपिल सुप्त मदन जगा रहे है

गीत तन्त्री से उलझ कर गूंज कर पुलका रहे हैं.

शान्त स्तब्ध निशीथ में सुरभित मनोहर हर्म्यतल में

गीत गतिलय में विसुध कामी पिपासा में विकल है,

गूँजती झंकार पर मनुहार स्वर रह-रह कर कँपाया,

प्रिये ! आया ग्रीष्म खरतर !