भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रिये मधु आया सुकोमल / कालिदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: कालिदास  » संग्रह: ऋतुसंहार‍
»  प्रिये मधु आया सुकोमल


प्रिये मधु आया सुकोमल

तीक्ष्ण गायक - आम्र और-

प्रफुल्ल की कर में उठाये

भ्रमर माला की मुकर

अभिराम प्रत्यन्चा चढ़ाये

सुरत सर से हृदय को

करता विदग्ध विदीर्न व्याकुल

प्रिये! वीर वसन्त योद्धा

आ गया मदपूर्ण चंचल

प्रिये मधु आया सुकोमल