भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रीतम जुनि जाऊ परदेश / कमलानंद सिंह 'साहित्य सरोज'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रीतम जुनि जाऊ परदेश ।
ई हेमन्त में एकसर गेने पाएब परम कलेश ॥
शीत निवारण कारण अछि जे सुन्दर सब उपचार ।
से सब कतए अहाँ के भेटत भेने घरक बहार ॥
नीक भवन भोजन समयोचित ओढ़ना गरम बिछौना ।
अपन नारि केर हृदय लागि कए सुख सँ सूतब कोना ॥
भल नहि एखन भूमि पर सुति कँ पूसक राति बिताएब ।
सूनू कहल ‘सरोज’ हमर सुख घरहि मध्य सब पाएब ॥
प्रीतम जुनि जाऊ परदेश ॥