भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रीत-21 / विनोद स्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बगत नै ईसको होग्यो
आपणै हेत सूं
जदी तो
बै दिन
कितणा गया तावळा
अर अब
अै दिन
कटै ई कोनी बावळा।