भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रीत-23 / विनोद स्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तूं म्हनै
अर म्हैं तनै
आखै दिन पकड़ायो
सुबड़ रो नाको।
गोडै री दाब लगा’र
दियो बीं रो आंटो,
मारी गांठ।
बंधता गया भारिया
आपणै हेत रा।
अब जद-जद
खेतां में पड़्या दिखै अै भारा
हरेक रै
अेक कानी म्हैं
अर दूजै कानी तूं खड़ी दीखै।