भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रीत-7 / विनोद स्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राह बगती रो तेरो पल्लो
झाड़की रै कांटै में
अड़’र छूटग्यो।
तूं चिमकती-सी मुड़ी
अर गाळ काढी-
मरज्याणा, अै झाड़का ई
तेरै बरगा होग्या।