भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रीत : अेक / विरेन्द्र कुमार ढुंढाडा़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोई तो कारण हा
जकां में बंध
आपां आया
अेक दूजै रै नेड़ा।

बा पकायत
प्रीत ई ही
इण में
कित्तो-क सांच है
कित्तो-क कूड़
कुण जाणै
आपां नै टाळ।

आव
आपां सोधां
बै कारण
फेर देखां
कित्ती-क चालै प्रीत
कारण परगट्यां
जे चालै प्रीत
तो जीत है
प्रीत री।