भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेमक्षुधा / विजय कुमार विद्रोही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रीत संग नवजीवन कलरव
कसमस सौरभ प्रेम विभव
झिम रिमझिम उन्मद कानन
आ प्राणपवन महकाती जा
आजा,आ,अब,आ भी जा

पल पल अविकल सरस भाव
ज्यों शीतज्वार से तर अलाव
उपवन चेतन कर नय भर दे
तू छनन छनन मदमाती जा
आजा,आ,अब,आ भी जा

मधुबेला कर दे मुक्तपाश
है शशिप्रभा उन्मन उदास
अब केश खोल आदेश थमा
ये मेघमाल सरकाती जा
आजा,आ,अब,आ भी जा

चिरवियोग पतझड़ जीवन
आयुताप शापित तन-मन
निज यौवनघट की मधुरधार
इस जीवन में बरसाती जा
आजा,आ,अब,आ भी जा