भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम-10 / सुशीला पुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रेम
कबूतरों का
वह जोड़ा है

जो पिछली कई सदियों से
पर्वत-गुफ़ाओं में
गुटर-गूँ करता
पर दिखता नहीं है

दिखती हैं सिर्फ़
उनकी अपलक-सी आँखें
और आँखों का पानी