भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम-11 / सुशीला पुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रेम में
अगन पाखी उड़ता है
भीतर ही भीतर

भीतर ही
भस्म होते हम
खोजते रहते हैं
अपने हिस्से की मृत्यु

प्रेम के लिए
सिर्फ़ जीवन ही नहीं
मरण भी
उतना ही ज़रूरी है...!