भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम-1 / राजेन्द्र शर्मा 'मुसाफिर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फंफेड़ नाखै
काळजै मांयली
अेक तूफानी लैर
जकी मैसूस करै
जगती सूं निरवाळा
फगत दो जीव।

नैतिक नेम-कायदा
समाजू असूल
जात-धरम री लाल-हरी धजावां
ऊंच-नीच रा रोळा
मिंदर-मैजत री धोक
सगळा कर देवै तैस-नैस
भांत-भंतीला रंग
हुय जावै अेकठ
वठै रच जावै मांय-मांय
सातूं रंग भेळौ
फगत अेक प्रेम-रंग।

पण हुय जावै जद
ओ रंग जग-चौड़ै
खिंड जावै पूठा विडरूप रंग
जात-धरम रा
ऊंच-नीच रा
गरीबी-अमीरी रा
घिनावरा उकळता रंग
छेकड़ बचै अेक ई रंग
अणथाग लोही रौ
जकौ नीसरै तरवार री धार सूं
बच जावै अखूट प्रेम-कहाणी।