भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम-6 / सुशीला पुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रेम
एक नन्ही गिलहरी है
जो बरगद की त्वचा पर
उछलती-फुदकती
बनाती रहती है
अनन्त अल्पनाएँ

और
पास जाते ही
भागकर छिप जाती है
ऊँचे अनदेखे
अनजाने कोटरों में ।