भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम-7 / सुशीला पुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रेम
भूख भी है...आग भी
पकने, तपने और स्वाद के बीच

कहीं न कहीं
बटुली में
खदबदाती रहती है

एक चुटकी चुप
और ढेर सारी भाप...!