भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम-8 / सुशीला पुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रेम
एक खरगोश है
हरी दूब की भूख लिए
वन-वन भटकता

कुलाँचे भरता
डरा.. सहमा
छुपा रहता है
मन की सघन कन्दराओं में,

उसकी नर्म मुलायम त्वचा की
व्यापारी
यह दुनिया

नहीं जानती
उसके प्राणों का मोल...!