भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम-9 / सुशीला पुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रेम
पीतल की साँकलों वाला
भारी-भरकम
लोहे का द्वार है

जहाँ
असंख्य पहरुए
प्रवेश वर्जित की तख़्तियाँ लिए
घूमते रहते हैं रात-दिन...

और आपको
दाख़िल होना होता है
अदीख हवा में घुली
सुगन्ध की तरह...!