भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम केरोॅ फूलोॅ के / मुरारी मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रेम केरोॅ फूलोॅ के पराग के तड़ाग में
चभांग दै केॅ प्रकृति भी डुबकी लगावै छै
पोरोॅ-पोरोॅ रंगोॅ में चभोरी ढेरी प्रेमपत्र
पँखुरी के रूपोॅ में प्रेमी केॅ पहुँचावै छै
आमी गाछी लागै जेना मँड़वा छरैनें रहै
मकरन्द लागै मंगलाचरण गावै छै
मंजुधोषाँ मंजुगान केरोॅ छेड़ै तान-तान
मंजरी संग पत्ता-पत्ता मंजीरा बजावै छै ।