भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम के समान जग, किछुओ न होवे भाई / छोटेलाल दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

॥मनहर छन्द॥

प्रेम के समान जग, किछुओ न होवे भाई।
जाके उर प्रेम नाहिं, जीवन बेकार है॥
प्रेम बिन ज्ञान नाहिं, प्रेम बिन ध्यान नाहिं।
प्रेम बिन योग तप, मानिए असार है॥1॥
प्रेम बिन बुद्धि नाहिं, प्रेम बिन शुद्धि नाहिं।
प्रेम बिन कबहुँ न, उर के विस्तार है॥
प्रेम बिन सुख नाहिं प्रेम बिन मित नाहिं।
‘लाल दास’ प्रेम बिन, नीरस संसार है॥2॥