भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम बयार सिहकि गेलय / नीतीश कर्ण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रेम बयार सिहकि गेलय
मनक पंछी चहकि गेलय

झुकल नैन के उठिते धरि
धाप इज़ोर छिटकि गेलय

नैन नैन स मिलिते सउंसे
रातुक रानी गमैक गेलय

ओ पहिल नजरि जे हिय में
सोन सन जे चमकि गेलय

ओ छिलकैत मदिरा नैना स
नीतीश कनि बहकि गेलय