भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम में-4 / निशांत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम कहो फूल
मैं फूल बन जाता हूँ

तुम कहो हवा
मैं हवा बन जाता हूँ

तुम कहो तितली
मैं तितली बन जाता हूँ

अब
तुम कुछ मत कहो

अब
मैं फूल हवा और तितली हूँ ।