भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम रंग / अरविन्द भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बस एक बूंद गिरी
खाई और गहरा गई
पत्तियाँ झड़ने लगी
सूरज सिर पर
ताण्डव करने लगा

आकाश में गिद्धों का पहरा
घौंसलों में छाई वीरानी
सूख कर
जो काला पड़ गया
वो प्रेम रंग था।