भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम री बातां / अजय कुमार सोनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थारै साथै
करयोड़ी सगळी
मीठी-मीठी बातां
थांनै कांई
अजे तांई
चेतै है ?

म्हानै तो
चेतै है
बै
थारै
प्रेम री बातां
अजे तांई।

थू पण हाल
क्यूं है मनू ?