भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम से इतर कुछ नहीं था उनके पास सखी / राकेश पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पत्तों पर आचारित है वही शब्द
जो धम्म के मन्त्रों में बुदबुदाये थे बुद्ध ने
उन मन्त्रों के रास्ते ही गुजरे थे
तुम्हारी कोमल इच्छाएं

हर हवा के झोकों के साथ
फड़फड़ाते उन्हीं पत्तों पर
लिखे थे बुद्ध के बीज मंत्र
संघ, शरण और शरणागत के

संचरण से पहले पतन नहीं जानते थे
क्योंकि प्रेम में थे ये पत्ते भी
समाधिस्थ बुद्ध की तरह
विलग ही विछोह का विशद था इनके लिए

सुनों बुद्ध ने पतन जाना ही नहीं
और न ही पतन का मार्ग बताया
उन्होंने प्रेम से अलग कुछ बताया ही नहीं
क्योंकि प्रेम से इतर कुछ नहीं था उनके पास सखी