भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम स्मृति-1 / समीर बरन नन्दी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मै अब वैसा बिलकुल नहीं, जब
काग़ज़ का हवाई जहाज़ बनाकर
मै अपने को उड़ा देता था -- तुम्हारी ओर ।

फिर चक्कर.. चक्कर... चक्कर खा कर
चक्कर खा कर तुम्हारी छाती पर
मुँह के बल टकराकर गिर जाता था ।

और सचमुच मुझे कोई चोट नहीं लगती थी...
और अब.....