भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम स्मृति-5 / समीर बरन नन्दी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उस दिन तुम्हारे घर जब पहुँचा
तुम दोनों पाँव सोफ़े पर रख कर
जाने क्या सोचने में लगी थीं ।

थोड़ी सी धूप, काम-लोलुप हो कर
तुमसे लिपटी हुई थी... देखा तो
वही मेरे आगे बाधा बनी हुई थी ।

दो पद्म भोर खेल रहे थे
तुम्हारे पाँव के पत्तों पर
पास ही हारमोनियम रखा था ।

मेरे खड़े होने की छाया पा कर
भड़क उठी थीं तुम, मधुमक्खी कि तरह
भगाने में लग गई थी ।

और मेरे पास मेरी पाली हुई दस मधुमक्खियाँ
तुम्हारी देह की छाया पर
मण्डराने लगी थीं ।

फिर संध्या आ गई थी, चिड़ियों की तरह
घर लौटते हुए, दो पंख ज्यों खोले
भारी हो गया था मुखमण्डल, मै नहीं था ब्राह्मण ।

उस दिन से आधे-अधूरे-अँधेरे में
सबसे सुन्दर तुम बन बैठीं, रात आने पर -- थोड़ी-सी
चाँदनी, तुम्हारे मुख पर मल लिया करता हूँ मैं

आकाश में होता है चाँद
ठण्डी रात की तरह
आँखों से झरता है कुहासा...