भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम 1 / सोनी पाण्डेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम देखते हो अपलक
मुझे उस क्षण
जब प्यास से अधिक भूख बढती है
भूख का भूगोल जैविक है
प्यास का इतिहास भौतिक
चलो, मैं बुरा नहीं मानूँगीं
ये जानकर की तुम्हारी भूख
बाँधती है तुम्हें मुझसे
मैं मुग्ध हो जाती हूँ तुम पर
जब अपलक निहारते हुए तुम्हारी पनियायी आँखें कह देती हैं
विनम्र आग्रह स्वीकार होता है
जानते हो
ये याचना है भूख की स्नेहील
आओ! तुम्हारी भूख का स्वागत है