भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फलक पर चांद / कुमार मुकुल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आकाशगंगाओं पर

चांदनी का कोई दबाव नहीं है

और तारे मार कुलबुला रहे हैं

किसी ने आसमान से

ज़रा सा सिर निकाला हो जैसे

फलक पर झाँकता है चांद

उसके तांबई सिर के नीचे

झाँकती आँख-सा

चमकता एक तारा

पास ही है।