भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फल / निर्मल आनन्द

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूरज की तेज़ होती
किरणों के साथ
तप रहे हैं
बालू के कण

गर्म हो रही है हवा
बदल र्हे हैं
वृक्षों के चहरों के रंग

और
वक़्त की टहनियों पर
पक रहे हैं फल

फल
जिनके भीतर हैं बीज ।