भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फ़रेब / मिला दिल मिलके टूटा जा रहा है

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रचनाकार: मजरूह सुल्तानपुरी , गायक:लता मँगेशकर                 

मिला दिल, मिल के टूटा जा रहा है
नसीबा बन के फूटा जा रहा है..

दवा-ए-दर्द-ए-दिल मिलनी थी जिससे
वही अब हम से रूठा जा रहा है

अंधेरा हर तरफ़, तूफ़ान भारी
और उनका हाथ छूटा जा रहा है

दुहाई अहल-ए-मंज़िल की, दुहाई
मुसाफ़िर कोई लुटा जा रहा है