भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फ़र्क़ कुछ तो चाहिए अग़्यार से / मीर 'तस्कीन' देहलवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फ़र्क़ कुछ तो चाहिए अग़्यार से
सिर्र-ए-उल्फ़त मि छुपाएँ यार से

अपनी आँखों ये अगर तशबीह हूँ
अश्क टपके रोज़न-ए-दीवार से

बात उन की मोतबर है सच कहा
हाल मेरा पूछिए अग़्यार से

उस की चाटी में नहीं गूबाफ़ सुर्ख़
उठे हैं शोले दहान-ए-मार से

धूप में बैठूँ के ख़ज्लत से उदू
भाग जाएँ साया-ए-दीवार से

पास से मेरे उठाती है गै़र को
ज़ोर हो सकता तो चश्म-ए-ज़ार से

छूटती हैं मुँह पे क्या महताबियाँ
वस्ल के दिन साया-ए-दीवार से

सौ तरह की फ़िक्र ‘तस्कीन’ पड़े
दिल लगा कर उस बुत-ए-अय्यार से