भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फ़ाएदा क्या तुम्हें सुनाने का / महेश चंद्र 'नक्श'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फ़ाएदा क्या तुम्हें सुनाने का
मौत उनवाँ है इस फ़साने का

हम भी अपने नहीं रहे ऐ दिल
किस से शिकवा करें ज़माने का

ज़िन्दगी चौंक चौंक उट्ठी है
ज़िक्र सुन कर शराब-ख़ाने का

किस की आँखों में आए हैं आँसू
रूख़ बदलने लगा ज़माने का

बर्क़ नज़रों में कूँद उठती है
नाम सुनते ही आश्याने का

‘नक्श’ कश्ती के ना-ख़ुदा वो है
लुत्फ़ है आज डूब जाने का