भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फ़ैमिली फ़ोटो / ईमान मर्सल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ईमान मर्सल  » फ़ैमिली फ़ोटो

तस्वीर में एक औरत और एक बच्ची हैं, दोनों पीले-मरियल लग रहे, तस्वीर कोई बहुत स्पष्ट नहीं है। औरत मुस्करा नहीं रही बिल्कुल (उसे यह नहीं पता कि ठीक सैंतालीस दिन बाद वह मर जाएगी)। लड़की भी मुस्करा नहीं रही (हालांकि उसे नहीं पता कि मृत्यु होती क्या चीज़ है)। औरत के होंठ और भवें उस लड़की जैसी हैं (लड़की की नाक उस पुरुष जैसी है जो सदा-सदा के लिए इस फ्रेम से बाहर ही रहेगा)। औरत का हाथ बच्ची के कंधे पर है और बच्ची ने अपना हाथ मुट्ठियों में बांध रखा है (ना, किसी क्रोध में नहीं, बल्कि उसने आधी बची टॉफ़ी वहां छिपा रखी है)। औरत की घड़ी चलती नहीं है, वह चौड़ी पट्टी वाली है (1974 में फैशन से बाहर), और लड़की का कपड़ा इजिप्त के कपास से नहीं बना है (नसीर, जो सुई से रॉकेट तक हर चीज़ बना लेता था, बरसों पहले मर चुका है)। जूते गाज़ा से आयात किए हैं (और जैसा कि आप जानते ही हैं, गाज़ा इन दिनों कोई आज़ाद जगह तो है नहीं)।

अंग्रेजी से अनुवाद : गीत चतुर्वेदी