भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फाँटभरि घाम बोकी / निमेष निखिल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फाँटभरि घाम बोकी जीवन झुल्छन् बालाहरु
गलाभरि मुस्कुराउँछन् विजयका मालाहरु
 
दुखव्यथा साथी हाम्रा हात समाई हिँडेका छौँ
बालेकै छौँ जस्केलामा आशैआशका पालाहरु
 
रोकिँदैन हाम्रो यात्रा गन्तव्य नटेकेसम्म
बैरीहरुले बाटोभरि छरे पनि भालाहरु
 
कहिलेसम्म दबाउँछौ विरोधका स्वर 'निखिल'
खोल अब ओठबीच झुन्डिएका तालाहरु।