भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फिर उठी आज वो निगाह-ए-नाज़ / महेश चंद्र 'नक्श'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फिर उठी आज वो निगाह-ए-नाज़
इक नए दौर का हुआ आग़ाज

हर हक़ीक़त है आईना फिर भी
ज़र्रा ज़र्रा है इक जहान-ए-राज़

लब-ए-शाएर पे गीत रक़्साँ हैं
रूह-ए-फ़ितरत है गोश बर-आवाज़

मेरी ख़ामोशियूँ के आलम में
गूँज उठती है आप की आवाज़

कोई आलम नहीं क़याम-पज़ीर
लम्हा लम्हा है माइल-ए-परवाज़

‘नक्श’ हम अहल-ए-दिल ने देखे हैं
मंज़िल-ए-इश्क़ के नशेब ओ फ़राज़