भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

फिर उसी राहगुज़र पर शायद / फ़राज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फिर उसी रहगुज़ार पर शायद
हम कभी मिल सकें मगर शायद

जान पहचान से ही क्या होगा
फिर भी ऐ दोस्त ग़ौर कर शायद

जिन के हम मुन्तज़िर[1] रहे उनको
मिल गये और हमसफ़र शायद

अजनबीयत की धुंध छंट जाए
चमक उठे तेरी नज़र शायद

जिंदगी भर लहू रुलाएगी
यादे -याराने-बेख़बर[2] शायद

जो भी बिछड़े हैं कब मिले हैं "फ़राज़"
फिर भी तू इन्तज़ार कर शायद

शब्दार्थ
  1. प्रतीक्षारत
  2. भूले बिसरे दोस्तों की यादें