भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फिर रचूँगा मैं / श्याम बिहारी श्यामल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धार पर ओठँघकर
टेरूँगा ज़िंदगी
हँकाऊँगा बार-बार
परबत पर प्यार
गुनगुनाकर बनाऊँगा निर्धूम
हींड़-हाँड़कर छोड़ा हुआ आकाश

रचूँगा
मैं रचूँगा फिर
सूरज-चाँद से लैस कविता
नई, सुवासित
हरी-भरी और सुन्दर
फिर नए किनारे
फिर नया समुन्दर