भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फिर वही किस्सा / वत्सला पाण्डे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वही किस्सा फिर
सुनाने लगे तुम

जिसकी आवाज़ से
भागती रही हमेशा
जिसे भूल जाना
चाहती रही मैं सदा

किस्सा जो
हो नहीं सकता
कभी पूरा
जाग गई इच्छा
तब
क्या करूंगी मैं

मत जगाओ
इतना कि
तरसती ही रहूं
नींद के लिए सदा

सुनाना ही है
तब
सुनाओ वही किस्सा
कि
उनींदी रहूं सदा