भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फिर वही चाँद वही रात कहाँ से लाऊँ / फ़रहत एहसास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फिर वही चाँद वही रात कहाँ से लाऊँ
उससे दोबारा मुलाक़ात कहाँ से लाऊँ !

फाका करने से फकीरी तो नहीं मिल जाती
तंगदस्ती में करामात कहाँ से लाऊँ !

हर घड़ी जागता रहता है दुखों का सूरज
नींद आती है मगर रात कहाँ से लाऊँ !