भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फिर वही शब वही सितारा है / विकास शर्मा 'राज़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फिर वही शब वही सितारा है
फिर वही आस्माँ हमारा है

वो जो ता'मीर थी, तुम्हारी थी
ये जो मलबा है, सब हमारा है

चाहता है कि कहकशाँ में रहे
मेरे अंदर जो इक सितारा है

वो जज़ीरा ही कुछ कुशादा था
हमने समझा यही किनारा है

अपनी आवाज़ खो रहा हूँ मैं
ये ख़सारा बड़ा ख़सारा है