भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फिलहाल / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

     तुम बस आती रहो जिन्दगी
     देखूं आगे क्या लाती हो।
     थोड़ा ठहरो,
     मैं खुद पर हावी हो जाऊँ।
     जाचूँ, कितनी गहरी पहुँच सकी हूँ मैं
     धरती के भीतर
     धँसी हुई हूँ मैं फिलहाल
     अपने पैरो में गढ़वाई
     लम्बी कीलों से।
     गीला सा दलदल है
     और बढ़ता जाता है।