भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फुदकू जी अब कहाँ गए / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यहाँ गए, फिर वहाँ गए
फुदकू जी अब कहाँ गए?

जहाँ-जहाँ जाते फुदकू जी
एक हंगामा होता है,
दुनिया उथल-पुथल हो जाए
ऐसा ड्रामा होता है।
वहाँ-वहाँ पर धूम मचाई
फुदकू जी जब, जहाँ गए।

चिड़ियाघर में भालू देखा
तो नाचे भालू बनकर,
हाथी एक नजर आया तो
उस पर जा बैठे तनकर।
बोर हुए तो झटपट कूदे,
फुदकू जी अब कहाँ गए?

कितनी ऊधमबाजी होगी
होगी कितनी मनमर्जी,
बोलो फुदकू, प्यारे फुदकू
मान नहीं लेते क्यों गलती?
थोड़ा तो अब धर पर बैठो-
सुनकर वे तमतमा गए।