भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फुल्डा बिन्न्ती तू चली / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फुल्डा बिन्न्ती तू चली ओ लड़क्ली अपना पिताजी का बाग म ,
कछु बिनय कछु बिनवा हो लाग्या एत्रा म आया दुल्ल्व रायजी ,
उठो लड़क्ली बठो पाल्क्डी चलो तो आपना देस जी
जंव दादाजी वर प्र्ख्से तंव जाई जावा तुमरा साथ जी ,
जंव हमरा पिताजी दायजो स्न्जोव तंव जाई जावा तुमरा साथ जी ,
जंव हमरा जीजाजी मंडप छाव तंव जाई जावा तुमरा साथ जी ,
जंव हमरी माय जो कूख पुजाड तंव जाई जावा तुमरा साथ जी
काहे ख पालई रे बाबुल काहे ख पोसी काहे पिलायो काचो दूध जी ,
माया सी पालई रे बाबुलt माया सी पोसी,
ममता पिलायो काचो दूध जी