भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फुल रोयो आज / सुरेन्द्र राना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


फुल रोयो आज, जून रोयो आज
तिमी रुँदा गीतको धुन रोयो आज

हाँसो लुटेर सायद, आँसु सँधै रमाउँछ
तिमी रुँदा आँखाको आँसु रोयो आज

तिम्रो व्यथा लेखी कविता बनाई सुनाउने
तिमी रुँदा कविताको कवि रोयो आज ।