भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फूँक / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साबुन को घोला पानी में
फिर फुँकनी से मारी फूँक।
उड़े बुलबुले आसमान में
जादू भरी हमारी फूँक।

खेल अनोखा हमने खेला
लगा लिया बच्चों का मेला
फू...फू करके सबने फिर
बारी-बारी से मारी फूँक।

हवा हमारे साथ हो गई,
लाख टके की बात हो गई,
बने बुलबुले उड़नखटोले,
करने चली सवारी फूँक।

पर कुछ पल में प्यारे-प्यारे,
फुट-फुट हुए बुलबुले सारे,
क्या करती, फिर मन मसोसकर
बैठ गई बेचारी फूँक।