भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फूटा गीत नया / धनंजय सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मन पर घिरा कुहासे वाला
मौसम बीत गया
इन्द्रधनुष रचती किरणों का
फूटा गीत नया ।

हरसिंगार झरे
टहनी-टहनी पंछी चहके
जूही, केतकी, वनचम्पा
बनकर सपने महके

गया
उदासी बुननेवाला
स्याह अतीत गया ।

खिली कुमुदिनी ने सौरभ के
गन्ध-पत्र बाँटे
सिहरन जगी रोम-कूपों में
उग आये काँटे

झोंका
मलय-पवन का
मन पर क्या-क्या चीत गया ।

चंचल हुआ झील का पानी
दरक गई काई
नभ से उतरी सोनमछरिया
जल में लहराई

पतझर से
कोंपल का सपना
फिर-फिर जीत गया ।