भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फूली जालो काँस ब्बै, फूली जालो काँस / गढ़वाली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

फूली जालो काँस[1] ब्बै, फूली जालो काँस,
म्योलड़ी[2] बासदी ब्बै, फूलदा बुराँस!
हिंसर की काँडी ब्वै, हिंसर की काँडी,
मौली[3] गैन डाली ब्बै, हरी ह्वैन डाँडी[4]
गौड़ी देली दूद ब्बै, गौड़ी देली दूद,
मेरी जिकूड़ी[5] लगी ब्बै, तेरी खूद[6]
काखड़ी को रैतू ब्वै, काखड़ी को रैतू,
मैं खूद लगी ब्बै, तू बुलाई मैतू[7]
दाथुड़ी को नोक ब्बै, दाथुड़ी की नौक,
वासलो कफू ब्बै, मैत्यों[8]का चौक!
सूपा भरी देण ब्बै, सूपा भरी देण,
आग भमराली ब्बै, भैजो[9] भेजी लेण[10]
टोपी धोई छोई ब्बै टोपी धोई छोई,
मैत्या डाँड देखी ब्बै, मैं आँदो रोई!
झंगोरा की बाल ब्बै, झंगोरा की बाल,
मैत को बाटो देखी ब्बै, आँखी ह्वैन लाल!

शब्दार्थ
  1. याद
  2. मायके
  3. कोपल आना
  4. चोटियाँ
  5. हृदय
  6. याद
  7. मायके
  8. मायके का
  9. भाई
  10. बुलाने