भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फूल लड़ाई / रामनरेश पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लोग
रौशनी से डरते हैं
सच से कतराते हैं
टेसू कहाँ फूलें ?

देह
देह के आ जाने को डरती है
कोहबर घर से कतराती है
गुलाब कहाँ उगें ?

गीत के पोखर
आदमी से डरते हैं
अपनी ही मेंड़ से कतराते हैं
कमल कहाँ झूमें ?

आओ
जुगनू की छाँव में
प्यार करें और अलग हो जायें

एक बड़ी लड़ाई
छिड़ने वाली है !