भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फूल हमरोॅ छै चमन हमरोॅ छै / सियाराम प्रहरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फूल हमरोॅ छै चमन हमरोॅ छै
चाँद तारोॅ है गगन हमरोॅ छै

हेकरोॅ कन कन से प्यार छै हमरा
देश हमरोॅ छै वतन हमरोॅ छै

हमरोॅ गुलशन नै कहियो मुरझैतै
खार हमरोॅ छै सुमन हमरोॅ छै

हमरोॅ धरती पर फिर बहार ऐतै
प्यार अनमोल रतन हमरोॅ छै

चलोॅ त सिर तनी झुकाय चलोॅ
है शहीदोॅ के वतन हमरोॅ छै।